Mahasagar Kitne Hai,और महासागर किसे कहते है सीखे हिंदी में.

आज हम यह जानेंगे के महासागर किसे कहते है, mahasagar kitne hai, mahasagar kitne prakar ke hai, सभी महासागर के बारे पूर्ण जानकारी के बारे में आपको स्टेपानुसार बताने वाले है.

mahasagar kise kehte hai – महासागर किसे कहते है-

महासागर पृथ्वी की तीन चौथाई पृष्ठ पर फैला हुआ जलमंडल है जो लगभग 71% भाग पृथ्वी का भू भाग पर फैला है विश्व का लगभग 98% लवणीय जल सागरों में पाये जाते हैं और लगभग 2% नदियों झीलों भू-गर्त या भूमि में पाये जाते हैं.
महासागर खारे पानी का संग्रह होता है जो पृथ्वी की सतह पर विशाल बेसिन में निहित है। अंतरिक्ष से देखने पर पृथ्वी के महासागरों की विशालता स्पष्ट रूप दिखाई देता है।

पृथ्वी की सतह का लगभग 71 प्रतिशत हिस्सा है समुद्र से ढका हुआ है। जिसकी औसत गहराई 3,688 मीटर है।

जैसा कि विश्व महासागर पृथ्वी के जलमंडल का प्रमुख घटक है। यह जीवन का अभिन्न अंग है। कार्बन चक्र का हिस्सा है, और जलवायु और मौसम के पैटर्न को प्रभावित करता है।

विश्व महासागर 230,000 ज्ञात प्रजातियों का निवास स्थान है। इसका अधिकांश हिस्सा गहराई पर है। इसलिए महासागर में मौजूद प्रजातियों की संख्या बहुत बड़ी है।

पृथ्वी के महासागरों की उत्पत्ति अज्ञात है। माना जाता है की जीवन यही से विकशित हुआ है।

महासागरक्षेत्रफल
(Km2)
महासागरों
की औसत
गहराई (M)
आर्कटिक (Arctic Ocean )
महासागर
15,558,000 1,205
अटलांटिक (Atlantic Ocean)
महासागर
85,133,0003,646
हिंद (Indian Ocean)
महासागर
70,560,0003,741
प्रशांत
महासागर (Pacific Ocean)
168,723,0003,970
दक्षिणी (Antarctica Ocean )
महासागर या
अंटार्कटिक
महासागर
21,960,0003,270

mahasagar kitne hai- mahasagar kitne prakar ke hote hai-

अब तक हमने जाना है mahasagar kise kehte hai लेकिन अब जानेंगे की mahasagar kitne hai सभी महासागर के बारे में आपको बताने वाले है-

1.-प्रशांत महासागर – Pacific Ocean-

“प्रशांत” शब्द का अर्थ शांतिपूर्ण है, प्रशांत महासागर को इसका नाम खोजकर्ता फर्डिनेंड मैगलन से मिला. उन्होंने महासागर को “मार प्रशांत” कहा, जिसका अर्थ था शांतिपूर्ण समुद्र.

प्रशांत महासागर करीब 10.1 करोड़ वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है, और यह दुनिया का सबसे बड़ा महासागर है.

  • प्रशांत महासागर ग्रह पर सबसे बड़ा महासागर है, यह पृथ्वी की सतह के 30% से अधिक हिस्से को कवर करता है. यह इतना बड़ा है कि यह दुनिया के सभी महाद्वीपों के भूभाग से बड़ा है.
  • प्रशांत महासागर सबसे गहरा महासागर भी है, यहाँ मारियाना ट्रेंच में चैलेंजर डीप सहित बेहद गहरी खाइयां हैं.
  • प्रशांत महासागर में तापमान भिन्न होता है, भूमध्य रेखा के करीब पानी का तापमान गर्म रहता है और ध्रुवों के पास पानी हिमांक तक पहुँच जाता है.
  • प्रशांत महासागर दुनिया के अधिकांश द्वीपों का घर है – हवाई सहित प्रशांत क्षेत्र में 25,000 से अधिक द्वीप हैं.
  • प्रशांत महासागर ग्रेट बैरियर रीफ का भी घर है, रीफ का अर्थ होता है चट्टान जो की दुनिया में सबसे बड़ी है और 1,429 मील से अधिक लंबी है. यह महत्वपूर्ण क्षेत्र अब विश्व विरासत स्थल के रूप में संरक्षित है.
  • प्रशांत महासागर में पिछले 40 वर्षों में समुद्री प्रदूषण 100 गुना बढ़ गया है, प्रशांत महासागर के पूर्वोत्तर भाग में प्रदूषण सबसे अधिक प्रचलित है. पानी के प्रदूषण के लिए मुख्य दोषी प्लास्टिक के छोटे टुकड़े हैं जो पानी में तैरते हैं, आसपास के वातावरण को प्रदूषित करते हैं और वन्य जीवन को खतरे में डालते हैं.

2.-अन्ध महासागर (Atlantic Ocean / Mahasagar)-

अन्ध महासागर या अटलांटिक महासागर उस विशाल जलराशि का नाम है जो यूरोप तथा अफ्रीका महाद्वीपों को नई दुनिया के महाद्वीपों से पृथक करती है। क्षेत्रफल और विस्तार में दुनिया का दूसरे नंबर का महासागर है जिसने पृथ्वी का 1/4 क्षेत्र घेर रखा है। इस महासागर का नाम ग्रीक संस्कृति से लिया गया है जिसमें इसे नक्शे का समुद्र भी बोला जाता है।

  • इस महासागर का आकार लगभग अंग्रेजी अक्षर 8 के समान है। लंबाई की अपेक्षा इसकी चौड़ाई बहुत कम है। आर्कटिक सागर, जो बेरिंग जलडमरूमध्य से उत्तरी ध्रुव होता हुआ स्पिट्सबर्जेन और ग्रीनलैंड तक फैला है, मुख्यतः अंधमहासागर का ही अंग है।
  • इस प्रकार उत्तर में बेरिंग जल-डमरूमध्य से लेकर दक्षिण में कोट्सलैंड तक इसकी लंबाई 12,810 मील है। इसी प्रकार दक्षिण में दक्षिणी जार्जिया के दक्षिण स्थित वैडल सागर भी इसी महासागर का अंग है। इसका क्षेत्रफल इसके अंतर्गत समुद्रों सहित 4,10,81,०४० वर्ग मील है।
  • अंतर्गत समुद्रों को छोड़कर इसका क्षेत्रफल 3,18,14,640 वर्ग मील है। विशालतम महासागर न होते हुए भी इसके अधीन विश्व का सबसे बड़ा जलप्रवाह क्षेत्र है।
  • अन्ध महासागर के नितल के प्रारंभिक अध्ययन में जलपोत चैलेंजर (1873-1876) के अन्वेषण अभियान के ही समान अनेक अन्य वैज्ञानिक महासागरीय अन्वेषणों ने योग दिया था।
  • अन्ध महासागरीय विद्युत केबुलों की स्थापना के हेतु आवश्यक जानकारी की प्राप्ति ने इस प्रकार के अध्यायों को विशेष प्रोत्साहन दिया। इसका नितल इस महासागर के एक कूट द्वारा पूर्वी और पश्चिमी द्रोणियों में विभक्त है।
  • अन्ध महासागर की मुख्य स्थली का 74 प्रतिशत भाग तलप्लावी निक्षेपों (पेलाजिक डिपाजिट्स) से ढका है, जिसमें नन्हें नन्हें जीवों के शल्क (जैसे ग्लोबिजराइना, टेरोपॉड, डायाटम आदि के शल्क) हैं। शेष 26 प्रतिशत भाग पर भूमि पर उत्पन्न हुए अवसादों (सेडिमेंट्स) का निक्षेप है जो मोटे कणों द्वारा निर्मित है।

3.-हिन्द महासागर (Indian Ocean)-

हिन्द महासागर विश्व का तीसरा सबसे बड़ा महासागर है | यह दुनिया का एकमात्र महासागर है जिसका नाम किसी देश के नाम पर रखा गया है | यानी, हिन्दुस्तान (भारत) के नाम पर रखा गया है। प्राचीन भारतीय ग्रंथो में इसे “रत्नाकर” कहा गया है।

  • हिन्द महासागर का क्षेत्रफल 7.35 करोड़ वर्ग किलोमीटर है | यह पृथ्वी पर उपस्तिथ जल का 19.8% कवर किये हुआ है | इसकी औसतन गहराई 12,274 फीट है | और अधिकतम गहराई 23,812 फीट है |
  • हिन्द महासागर का आकर अंग्रेजी वर्णमाला के M के आकार का है | यह उत्तर में एशिया, पश्चिम में अफ्रीका और पूर्व में ऑस्ट्रेलिया से घिरा है, दक्षिण में यह दक्षिणी महासागर या अंटार्कटिका से घिरा है |
  • हिन्द महासागर में स्थित प्रमुख्य द्वीप हैं; मेडागास्कर जो विश्व का चौथा सबसे बड़ा द्वीप है |

4-आर्कटिक महासागर ( Arctic Ocean )-

  • आर्कटिक महासागर विश्व के पांच प्रमुख पांच महासागरों में से यह सबसे छोटा और उथला महासागर है। यह महासागर पृथ्वी के उत्तरी गोलार्ध में स्थित है इसलिये इसे उत्तरीध्रुवीय महासागर भी कहा जाता है |
  • आर्कटिक महासागर का क्षेत्रफल 1.4 करोड़ वर्ग किलोमीटर है | यह यूरेशिया, उत्तरी अमेरिका (ग्रीनलैंड सहित) और आइसलैंड की भूमि से घिरा हुआ है। आर्कटिक महासागर का तापमान और लवणता, मौसम के अनुसार बदलती रहती है क्योंकि इसकी बर्फ पिघलती और जमती रहती है।
  • यह महासागर दुनिया का सबसे ठंडा महासागर है। यह पूरे वर्ष ज्यादातर बर्फ से ढका रहता है | ग्रीष्म काल में यहां की लगभग 50% बर्फ पिघल जाती है।
  • आर्कटिक महासागर – Arctic Ocean
    आर्कटिक महासागर दुनिया के पाँच प्रमुख महासागरों में से सबसे छोटा और उथला है. यह लगभग 1.5 करोड़ वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है और इसे सभी महासागरों में सबसे ठंडा भी कहा जाता है.
  • अंतर्राष्ट्रीय हाइड्रोग्राफिक संगठन (IHO) इसे एक महासागर के रूप में मान्यता देता है, हालांकि कुछ समुद्र विज्ञानी इसे आर्कटिक भूमध्य सागर कहते हैं. इसे लगभग अटलांटिक महासागर के एक मुहाने के रूप में वर्णित किया गया है.
  • आर्कटिक महासागर में उत्तरी गोलार्ध के मध्य में उत्तरी ध्रुव क्षेत्र शामिल है और दक्षिण में लगभग 60 ° N तक फैला हुआ है. आर्कटिक महासागर यूरेशिया और उत्तरी अमेरिका से घिरा हुआ है, और सीमाएं स्थलाकृतिक विशेषताओं का पालन करती

दक्षिणध्रुवीय महासागर (Antarctic Ocean / Mahasagar)-

  • दक्षिणध्रुवीय महासागर, जिसे दक्षिणी महासागर या अंटार्कटिक महासागर भी कहा जाता है, विश्व के सबसे दक्षिण में स्थित एक महासागर है।
  • इसका विस्तार 60° दक्षिण अक्षांश से दक्षिण में है और यह संपूर्ण अंटार्कटिका महाद्वीप को घेरे हुये है (उत्तर दिशा से)। यह पाँच विशाल महासागरों मे से चौथा सबसे बड़ा महासागर है।
  • इस महासागरीय क्षेत्र में उत्तर की ओर बहने वाला ठंडा अंटार्कटिक जल, गर्म उप-अंटार्कटिक जल से मिलता है।
mahasagar kitne hai
  • भूगोलविज्ञानियों में दक्षिणध्रुवीय महासागर की उत्तरी सीमा को लेकर मतभेद हैं यहाँ तक कि कुछ तो इसके अस्तित्व को ही नकारते हैं और इसे दक्षिणी प्रशांत महासागर, दक्षिणी अटलांटिक महासागर या हिन्द महासागर का दक्षिणी हिस्सा मानते हैं।
  • कुछ भूगोलविज्ञानी अंटार्कटिक सम्मिलन को वह महासागरीय क्षेत्र मानते हैं जिसकी उत्तरी सीमा जो इसे अन्य महासागरों से पृथक करती हैं, 60वीं अक्षांश नहीं है, अपितु यह मौसमानुसार बदलती रहती हैं।
  • अंतरराष्ट्रीय जल सर्वेक्षण संगठन ने अभी तक 60° दक्षिणी अक्षांश के दक्षिण में उपस्थित महासागरों से संबंधित अपनी 2000 परिभाषा की पुष्टि नहीं की है।
  • इसकी सबसे ताजातरीन 1953 की महासागर परिभाषा में दक्षिणध्रुवीय महासागर का उल्लेख नहीं है। ऑस्ट्रेलिया के मतानुसार, दक्षिणध्रुवीय महासागर ऑस्ट्रेलिया के दक्षिणी सिरे के ठीक नीचे से शुरु हो जाता है।

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको महासागर किसे कहते है, mahasagar kitne hai, mahasagar kitne prakar ke hai, सभी महासागर के बारे पूर्ण जानकारी के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment