Cyber Crime In Hindi साइबर अपराध क्या होता है..

आज हम आपको cyber crime in hindi , cyber crime kya hai , cyber crime ke prakar, cyber crime से बचने के उपाय के बारे में आपको हम Step By Step बताने वाले है.

cyber crime in hindi-

Cyber Crime का मतलब ऐसी किसी भी आपराधिक गतिविधि है जिसमें कंप्यूटर, नेटवर्क डिवाइस या नेटवर्क का उपयोग किया जाता है। साइबर अपराध हमेशा व्यक्तियों या हैकर्स द्वारा नहीं किया जाता है बल्कि संगठनों द्वारा भी किया जाता है।

cyber crime में कई अलग-अलग प्रकार की आपराधिक गतिविधियां हो सकती है। रैंसमवेयर अटैक, ईमेल और इंटरनेट फ्रॉड, आइडेंटिटी थेफ़्ट या फाइनेंशियल अकाउंट, क्रेडिट कार्ड या अन्य भुगतान कार्ड की जानकारी चुराना या किसी व्यक्ति की पर्सनल जानकारी या किसी कॉर्पोरेट डाटा को चुराना और उसे बेच देना, साइबर अपराध किसी भी प्रकार का हो सकता है।

cyber crime साइबर अपराधियों द्वारा ज्यादातर वित्तीय फायदे के लिए किए जाते हैं तो कुछ साइबर अपराध महत्वपूर्ण जानकारी रखने वाले कंप्यूटर या अन्य उपकरणों को नुकसान पहुंचाने या डिसएबल करने के लिए किए जाते हैं।

कुछ लोग वायरस, मैलवेयर या अन्य एन्क्रिप्टेड कोड आदि फैलाने के लिए कंप्यूटर या नेटवर्क का उपयोग करते हैं यानी, कंप्यूटर को कंप्यूटर वायरस से संक्रमित करने के लिए टारगेट करते हैं, जो कभी कभी सर्वर, डेटा वेयरहाउस और पूरे नेटवर्क में फैल जाता है।

साइबर क्राइम के प्रकार (Types of Cybercrime in Hindi)-

ज्यादातर साइबर अपराध वित्तीय लाभ के लिए किए जाते हैं और इसके लिए साइबर अपराधी भुगतान पाने के तरीके अलग-अलग तरीके अपना सकते हैं। साइबर क्राइम कई तरह के हो सकते हैं –

cyber crime kya hai

साइबर एक्सटॉरशन (Cyber Extortion in Hindi)

ऐसा साइबर क्राइम जिसके लिए पैसे की मांग की जाती है। रैंसमवेयर इसका सबसे सटीक उदाहरण है। इसमें साइबर अपराधी किसी व्यक्ति/ऑर्गनाइज़ेशन के सिस्टम तक पहुंच कर उसके डाक्यूमेंट्स और फ़ाइलों को एन्क्रिप्ट कर देता है, जिन्हे डिक्रिप्ट करने के लिए व्यक्ति/ऑर्गनाइज़ेशन से फंड की डिमांड की जाती है। और यह फंड किसी प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी जैसे बिटकॉइन आदि में भी हो सकता है

Hacking-

इस प्रकार के crime में hackers अक्सर restricted area में घुसकर दूसरों के personal और sensitive information को access करते हैं उनके बिना अनुमति के ही. ये restricted area किसी का personal computer हो सकता है या कोई online account.

Hacking या Cracking बहुत ही अलग होता है Ethical Hacking से जहाँ की organization Ethical Hackers को appoint करते हैं उनके website की security को check करने के लिए।

वहीँ hacking में, ये criminal बिना authorization के ही कई variety के software का इस्तमाल का किसी के भी computer में घुस जाते हैं और यहाँ तक की इसमें Computer Owner को ये पता तक नहीं चलता है की उसके सभी information को कोई hacker remotely access कर रहा है.

Cyber Stalking-

ये एक प्रकार का cyber crime होता है जिसमें की victim को online harass किया जाता है किसी staker के द्वारा. ये प्रायतः social media में ज्यादा देखने को मिलता है जिसमें की ये stalkers online messages और emails के द्वारा victims को परेशान करते हैं।

इसमें ये stalkers अक्सर छोटे बच्चों को अपना शिकार बनाते हैं जिन्हें की internet की ज्यादा समझ नहीं होती है. और ये उनसे उनका physical address, photos, personal information प्राप्त कर बाद में उन्हें blackmail करते हैं. इससे victims का life बहुत काफी तकलीफ दायक बन जाता है.

Identity Theft-

यह crime आज के time में सबसे ज्यादा देखा गया है. ये ज्यादातर उन लोगों को target करते हैं जो की Internet का इस्तमाल कर अपने cash transactions और banking services करते हैं।

इस cyber crime में, एक criminal किसी person का सभी data जैसे की उसका bank account number, credit cards details, Internet Banking details, personal information, debit card और दुसरे sensitive information किसी प्रकार access कर लेते हैं और फिर उन्ही details का इस्तमाल कर Victim का identity लेकर online चीज़ें purchase करते हैं। ऐसे में victims का बड़ा financial losses होता है.

Malicious Software-

ऐसे बहुत से Internet-based software या programs हैं जो की किसी भी network को ख़राब कर सकता है. ऐसे software को यदि किसी network में एक बार install कर दिया जाये तब ये hackers बड़ी ही आसानी से उस network में स्तिथ सभी information को access कर सकते हैं और साथ में उसमें स्तिथ डाटा को भी damage कर सकते हैं.

साइबर अपराध से सावधानियां (Cyber Crime से बचने के उपाय )-

आज साइबर अपराधी डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर की कमियों का फायदा उठाकर लगातार अपराध कर रहे हैं और कोई भी सुरक्षित नहीं है। ज्यादातर मामलों में साइबर वॉयलेशन का पता लगाने में किसी कंपनी/ऑर्गेनाइजेशन का औसत समय 200 दिनों से भी अधिक है।

cyber crime in hindi

अधिकांश इंटरनेट उपयोगकर्ता इंटरनेट उपयोग करते समय इस बात ध्यान नहीं देते हैं कि वे भी साइबर अपराध का शिकार हो सकते हैं और और बहुत कम लोग ही अपने पासवर्ड या इन्फॉर्मेशन जैसी अति सुरक्षित जानकारी समय समय पर अपडेट करते रहते हैं।

यह कई लोगों को साइबर अपराध के लिए अतिसंवेदनशील बनाता है और इसकी जानकारी होना महत्वपूर्ण है।एक व्यक्ति के रूप में या एक व्यवसाय के रूप में अपनी सुरक्षा के लिए आप स्वयं को और दूसरों को उन सावधानियों के बारे में शिक्षित कर सकते हैं। इसमें कुछ सामान्य सावधानियां इस प्रकार हैं –

  • वेबसाइट ब्राउज़ करते समय अनजान लिंक ना खोलें।
  • पासवर्ड/क्रेडेंशियल दर्ज करने से पहले सुनिश्चित करें कि वेबसाइट सुरक्षित हैं।
  • संदिग्ध ईमेल को फ़्लैग करें और रिपोर्ट करें।
  • आकर्षित विज्ञापनों पर कभी भी क्लिक न करें।
  • एंटीवायरस/एप्लिकेशन सिस्टम को अपडेट रखें।
  • मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें।
  • वेब ब्राउज़र में कार्य हो जाने के बाद हिस्ट्री और कूकीज डिलीट कर दें।

Conclusion-

  • जेसा की आज हमने आपको cyber crime in hindi , cyber crime kya hai or cyber crime ke prakar के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment