D Pharma Kya Hai, D Pharma Full Form, Fees, Syllabous, योग्यता, D Pharma Ke Bad Kya Kare

आज हम जानेंगे की D Pharma Kya Hai, d pharma full form in hindi, D Pharma का कोर्स कितने साल का होता है, D pharma की Fees, d Pharma ka Syllabous kya hai, d pharma karne ke liye yogyata, d pharma kaise kare, D pharma ke bad kya kare, d pharma ke fayde, d pharma ke bad jobs, d pharma Entrance Exam जिसकी पूरी प्रोसेस हम Step By Step Process आपको बताने वाले है.

D Pharma Kya Hai – डी फार्मा क्या है?-

आज हम जानेंगे की D Pharma Kya Hai और D Pharma से जुडी जानकारी आपको बताने वाले है-

D Pharma एक Diploma Level का Medical Field का कोर्स है। इसमें छात्र को दवा की Manufacturing यानि दवा कैसे बनाई जाती है।, दवा की Quality कैसा है, दवाओं को स्टोर कैसे किया जाता है।, किस बीमारी में कौन सा दवा का उपयोग करना चाहिए।

इत्यादि दवा से जुड़ी जानकारी दी जाती है। यह कोर्स 2 वर्ष होता है। जिसे छात्र 12th Science Subject Physics, Chemistry, Math और Physics, Chemistry, Biology से Inter करने वाले छात्र यह कोर्स को कर सकते है.

d pharma full form in hindi-

D pharma का full form / पूरा नाम है “Diploma in Pharmacy”.
डी फार्मा को हिंदी में “फार्मेसी में डिप्लोमा” कहते हैं।

D Pharma का कोर्स कितने साल का होता है ?-

डिप्लोमा इन फार्मेसी (d pharma) का कोर्स duration 2 साल का होता है। यह 4 सेमेस्टर में विभाजित होता है।

डी फॉर्मेसी का कोर्स करने के बाद विद्यार्थी फार्मासिस्ट बन जाता है।

D pharma की Fees कितनी होती है ?-

ज्यादातर Government College में डी फार्मा की फीस लगभग 10,000 से 20,000 रुपए सालाना होती है।

जबकि Private college में डी फार्मा कोर्स की फीस 1,00,000 से 2,00,000 रुपए सालाना होती है।

d Pharma ka Syllabous kya hai –

डी फार्मा में सामान्यतया दवाओं से जुड़ी जानकारी दी जाती है। इसमें Pharmaceutics(औषध-निर्माण विज्ञान) फार्माकोलॉजी, टॉक्सिकोलॉजी, ह्यूमन एनाटोमी और फिजियोलॉजी, बायोकेमेस्ट्री, क्लिनिकल पैथोलॉजी, ड्रग स्टोर बिजनेस मैनेजमेंट आदि कई विषय पढ़ाए जाते हैं।

D Pharma 1st semester syllabus-

  • Biochemistry और Clinical Pathology
  • Human Anatomy और Physiology- I
  • Pharmacognosy – I
  • Health Education और Community Pharmacy- I
  • Pharmacognosy Lab (प्रैक्टिकल)
  • Pharmaceutical Chemistry-I Lab (प्रैक्टिकल)

D Pharma 2nd semester syllabus-

  • Hospital और Clinical Pharmacy
  • Pharmacology और Toxicology
  • Pharmaceutical Chemistry- I
  • Drug Store और Business Management
  • Pharmaceutics Lab
  • Pharmaceutical Chemistry-II Lab

D Pharma 3rd semester syllabus-

  • Health Education और Community Pharmacy
  • Antibiotics
  • Human Anatomy और Physiology – II
  • Pharmacognosy- II
  • Biochemistry और Clinical Pathology Lab

D Pharma 4th semester syllabus-

  • Pharmaceutics
  • Pharmaceutical Chemistry-II
  • Pharmaceutical Jurisprudence
  • Pharmaceutical Jurisprudence
  • Health Education और Community Pharmacy- II
  • Hospital और Clinical Pharmacy Lab

d pharma ke fayde – डी फार्मा करने के फायदे-

जैसे की सभी को पता है मेडिकल क्षेत्र के अवसर कितना है। एक्सपर्ट का कहना है यह क्षेत्र आने वाले समय मे तेजी से ग्रो होगा।

डी फार्मा करने के कई सारे फायदे है जो आपको आगे जानने को मिलेगा:

  • डी फार्मा करके आप मेडिकल क्षेत्र में अपनी करियर बना सकते है।
  • इस कोर्स करने के पश्चात उम्मीदवारों को सरकारी तथा निजी अस्पतालों में फार्मासिस्ट के तौर पर नियुक्त किया जाता है।
  • इसके अलावा स्वास्थ्य सेंटर, एनजीओ, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर जैसे बड़े बड़े सेक्टर में ड्रग्स विभागों में जॉब्स मिलते है।
  • अगर कोई चाहे तो खुद का रिटेल फार्मेसी या व्होलसेल फार्मेसी सुरु कर सकते है।
  • कोई चाहे तो मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के तौर पर जॉब्स मिलते है।
  • जिनते भी फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्रीज है वहा डी फार्मा के उम्मीदवारों को नौकरी मिलते है।
  • कोई चाहे तो डी फार्मा के पश्चात हायर स्टडी कर सकते है। इसके बारे में डिटेल्स नीचे बताया गया है।

d pharma karne ke liye yogyata- डी फार्मा के लिए योग्यता –

डी फार्मा कोर्स करने के लिए निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए:

शैक्षिक योग्यता: डी फार्मा के योग्यता की बात की जाए तो ये एक डिप्लोमा कोर्स होने के नाते इसकी न्यूनतम योग्यता है 12 वी पास।

12 वी में आपके फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी या मैथेमेटिक्स होनी चाहिए।

यानी, यदि 12 वी में फिजिक्स, केमिस्ट्री के साथ बायोलॉजी है तो भी अप्लाई कर सकते है।

और अगर बायोलॉजी के बदले मैथेमेटिक्स है तो भी अप्लाई कर सकते है।

इन सारे सब्जेक्ट्स में 50 प्रतिशत नंबर के साथ 12 वी पास करना होगा।

यदि कोई SC, या ST कैटेगरी है तो उनके लिए कम से कम 45 प्रतिशत नंबर होनी चाहिए।

d pharma kaise kare – डी फार्मा कोर्स कैसे करें-

अब तक हमने जाना है की d pharma kya hai , d pharma full form in hindi और अब हम जानेंगे की d pharma kaise kar –

अगर आप D Pharma कोर्स कैसे करें इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि D.Pharma कोर्स करने के लिए आपको सबसे पहले 12वीं क्लास फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स या फिजिक्स, केमिस्ट्री तथा बायोलॉजी सब्जेक्ट से पास करना होगा. और साथ ही 12वीं कक्षा में कम से कम 50% से 55% अंक प्राप्त करे.

अगर आप किसी सरकारी कॉलेज से डी फार्मा कोर्स करना चाहते हैं, तो आपको एंट्रेंस एग्जाम अच्छे अंकों के साथ पास करना होगा.

क्योंकि कॉलेज में प्रवेश आपके एंट्रेंस एग्जाम की योग्यता के आधार पर ही दिया जाता है. और साथ ही सरकारी कॉलेज की फीस भी कम होती है.
इसके अलावा अगर आप यह कोर्स किसी प्राइवेट कॉलेज से करना चाहते हैं, तो बिना एंट्रेंस एग्जाम दिए भी कर सकते हैं. लेकिन निजी कॉलेजों की फीस सरकारी कॉलेजों की तुलना में काफी अधिक होती है.

वैसे हमारे भारत में कई ऐसे कॉलेज हैं जहां से D Pharma का कोर्स किया जा सकता है. इसके अलावा अगर आप इसे किसी प्राइवेट कॉलेज से करना चाहते हैं, तो आपको यह कोर्स नियमित रूप से करना चाहिए. जिससे आपको सभी दवाओं की जानकारी मिल सके.

अगर आपका एडमिशन डी फार्मा कोर्स करने के लिए कॉलेज में होता है, तो आपको इस कोर्स की पढ़ाई दो वर्ष तक करनी होती है. जिसे चार सेमेस्टर में बांटा गया है.

यदि आप D Pharma कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा करते हैं, तो आपको 3 महीने कि इंटर्नशिप भी करनी होती है. और इंटर्नशिप करने के बाद ही आपको डी. फार्मा का प्रमाण पत्र दिया जाता है.

जिसके बाद आप किसी भी सरकारी संस्थान या किसी निजी संस्थान में फार्मेसी की नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं. या फिर आप अपनी खुद की मेडिकल शॉप भी खोल सकते हैं.

D pharma ke bad kya kare- d pharma ka scope-

डी फार्मा के बाद भी ऐसे कई कोर्स हैं जिनमें प्रवेश करके आप अपना अनुभव बढ़ा सकते हैं और रोज़गार के रास्तों में वृद्धि कर सकते हैं। विद्यार्थिओं को अच्छी तरह से सोच समझकर निर्णय लेना चाहिए कि उन्हें आगे पढ़ना चाहिए या फिर नौकरी या व्यवसाय की तरफ ध्यान देना चाहिए।

Bachelor’s Courses

Bachelor of Pharmacy (B. Pharm)4 Years
Bachelor of Pharmacy (B. Pharm) Lateral Entry3 Years
Pharm (Hons.)4 Years
Bachelor of Pharmacy (Ayurveda)4 Years

Master’s Courses

Master of Pharmacy (M.Pharm)2 Years
PharmD (Post Baccalaureate)3 Years
Doctor of Pharmacy (Pharm D)6 Years

Doctorate and Post-Doctoral Courses

Ph.D. in Pharmaceutical Sciences3 Years
Postdoc in Pharmaceutical Sciences2 Years

d pharma ke bad jobs – d pharma के बाद रोजगार-

goverment sector jobs-

  • इंडिया इम्युनोलॉजिकल्स एंड बायोलॉजिकल्स कॉर्पोरेशन लिमिटेड
  • हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स लिमिटेड
  • इंडियन ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड
  • ड्रग इंस्पेक्टर
  • प्रोजेक्ट एंड डेवलपमेंट इंडिया लिमिटेड
  • बंगाल केमिकल्स एंड फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड
  • हिंदुस्तान फ्लूरोकार्बन लिमिटेड

प्राइवेट क्षेत्र में जॉब (Jobs in Private Sector)-

  • केमिस्ट या ड्रगिस्ट
  • वैज्ञानिक अधिकारी
  • उत्पादन कार्यकारी
  • तकनीकी पर्यवेक्षक
  • दवा विपणन
  • चिकित्सकीय लिप्यंतरण
  • मेडिकल स्टोर

d pharma top college list- Top D pharm college in India-

इस लिस्ट में कुछ सरकारी तथा प्राइवेट कॉलेज के नाम बताई गई है।

• दिल्ली इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च, नई दिल्ली

• जे एस एस कॉलेज ऑफ फार्मेसी, मैसूर

• Dr D Y पाटिल इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च, पुणे

• अन्नामलाई विश्वविद्यालय, अन्नामलाई नगर

ISF कॉलेज ऑफ फार्मेसी

• बिहार कॉलेज ऑफ फार्मेसी, पटना

• SLT इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस

• इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मेसी, जलपाईगुड़ी

• श्री अरबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मेसी, इंदौर

• PSG कॉलेज ऑफ फार्मेसी, कोयम्बटूर

• गोवा कॉलेज ऑफ फार्मेसी, पणजी

• जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी, जयपुर

• बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी

• बी के मोदी गवर्नमेंट फार्मेसी कॉलेज, राजकोट

• चितकारा कॉलेज ऑफ फार्मेसी, राजपुरा

d pharma Entrance Exam – D Pharma कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा-

आप अगर किसी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं तो आपको बिना किसी प्रवेश परीक्षा के एडमिशन मिल जाता है लेकिन सरकारी कॉलेज में डी फार्मा करने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा देनी होती हैं जिसमे आपको मिले अंकों के अनुसार आपको एडमीशन मिलती है।

इसके लिए अलग अलग राज्यों द्वारा प्रवेश परीक्षाओं का आयोजन करवाया जाता है जिनमें से कुछ के बारे में हम निम्न जानकारी प्रदान कर रहे हैं:-

State NameEntrance Exam Name
उत्तर प्रदेशUPSEE – Pharmacy
महाराष्ट्रMHT CET
गुजरातGUJCET
राजस्थानRUHS-P
तमिल नाडुAU AIMEE
पश्चिम बंगालWBJEE-Pharmacy
उड़ीसाOJEE-Pharmacy
गोवाGoa CET
कर्नाटकKCET

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको D Pharma Kya Hai, d pharma full form in hindi, D Pharma का कोर्स कितने साल का होता है, D pharma की Fees, d Pharma ka Syllabous kya hai, d pharma karne ke liye yogyata, d pharma kaise kare, D pharma ke bad kya kare, d pharma ke fayde, d pharma ke bad jobs, d pharma Entrance Exam के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment