E Kyc Kya Hai, E Kyc Full Form, Kyc के प्रकार, ई-केवाईसी के उपयोग.

आज हम यह जानेंगे के e kyc kya hai, e kyc full form in hindi, e kyc kaise kam karta hai, e-KYC के लिए जरूरी Documents, E-KYC क्यों जरूरी है, E-KYC kitne prakar ki hoti hai, e-KYC के फायदे, e kyc के उपयोग के बारे में आपको स्टेपानुसार बताने वाले है.

e kyc kya hai- ई-केवाईसी क्या है-

e-KYC को हिंदी में (e KYC Full form in Hindi) अपने ग्राहक को जानिए कहते हैं। यह वित्तीय संस्थान और ग्राहक के बीच संबंध स्थापित करने का शुरुआती स्टेप है, जिसका लक्ष्य मनी लॉन्ड्रिंग जैसी धोखाधड़ी की गतिविधियों को रोकना है।

यह लेन-देन शुरू करने या वित्तीय सेवाओं का उपयोग करने से पहले ग्राहक की पहचान को सत्यापित करने के लिए प्रक्रियाओं की एक श्रृंखला है।

ई-केवाईसी को केवाईसी सत्यापन के एक उपयुक्त तरीके के रूप में स्थापित और मान्यता दी गई है। क्योंकि, डिजिटलीकरण ने बैंकिंग में लगने वाले समय की प्रक्रियाओं को बदल दिया है।

ई-केवाईसी, जो इलेक्ट्रॉनिक केवाईसी का प्रारुप है, यह पहचान के डिजिटल सत्यापन को संदर्भित करता है जिसके लिए आमने-सामने संपर्कों की आवश्यकता नहीं होती है।

प्रक्रिया सीधी, त्वरित और सस्ती है। आइये आपको इस आर्टिकल में ई-केवाईसी के बारे में विस्तार से जानकारी देते हैं।

ई-केवाईसी फुल फॉर्म (E KYC Full Form in hindi)-

  • E – Electronic
  • K – Know
  • Y – Your
  • C – Customer

E-KYC की फुल फॉर्म होती है – इलेक्ट्रॉनिक – नो योर कस्टमर (Electronic – Know Your Customer) यानि अपने कस्टमर को जानना और उसका सत्यापन करना होता है। जब यह इलेट्रॉनिक जरिये से होता है तो इसे इलेक्ट्रॉनिक – नो योर कस्टमर कहा जाता है।

e-KYC के लिए जरूरी Documents-

यहाँ पे मैं आपको KYC हेतु जरुरी डाक्यूमेंट्स की सूचि दे रहा हूँ पर ध्यान रहे की ये कोई जरुरी नहीं है की हर जगह kyc के लिए इतने सारे डाक्यूमेंट्स देने होते हैं। बल्कि जरूरत के हिसाब से 1-2 document से भी kyc की प्रक्रिया पूरी हो जाती है।

  • पैन कार्ड (Pan Card)
  • आधार कार्ड (Aadhar Card)
  • ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence)
  • वोटर आईडी कार्ड (Voter ID)
  • फोटो पासपोर्ट साइज (Passport Size Photo)
  • निवास या पता प्रमाण (Address Proof)
  • जन्मतिथि प्रमाण – पत्र (Birth certificate)
  • फोन नंबर व ईमेल आईडी (Phone Number & Email ID)

e kyc kaise kam karta hai -E-KYC कैसे काम करता है?-

E-KYC पूरी तरह से डिजिटल है और ग्राहक के paperless identity verification के लिए आधार डेटाबेस का उपयोग करता है।

इसलिए, इसका विकल्प चुनने के लिए आपके पास आधार कार्ड होना चाहिए। एक बार जब आप किसी financial services का लाभ उठाने के लिए अनुरोध करते हैं, तो संस्थान KYC Verification Process शुरू करने के लिए अनिवार्य है।

यदि संस्था या एजेंसी UIDAI (भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण) द्वारा अधिकृत है, तो आप verification को अपने तरीके के रूप में ईकेवाईसी का विकल्प चुन सकते हैं।

E-KYC क्यों जरूरी है ? Importance of ई – केवाईसी

किसी भी बैंक ग्राहक, वित्तीय विभाग आदि अपने ग्राहक से कुछ जरूरी जानकारी लेती है। ताकि वो व्यक्ति अपनी उस फर्म के साथ कुछ जालसाजी न कर पाए।

यानि केवाईसी इसलिए जरूरी होती है ताकि कोई ग्राहक बैंक या अन्य जगह पर धोखाधड़ी न कर सके।

ऐसे में उस ग्राहक से उसकी सभी जानकारी ली जाती है ताकि वो भविष्य में कोई फ्रॉड न करें और यदि करे भी तो उसको पकड़ा जा सके।

केवाईसी किसी बैंक या कंपनी के लिए बहुत ही जरूरी है क्योंकि इससे अपराधिक गतिविधियों कम होती है।

E-KYC kitne prakar ki hoti hai –

E – KYC का लाभ उठाने के कई तरीके हैं। ये इस प्रकार हैं:

E KYC KYA HAI

oTP के आधार पर ऑनलाइन ई केवाईसी-

आप अपने आधार कार्ड से जुड़े मोबाइल नंबर पर भेजे गए वन-टाइम पासवर्ड (OTP) का उपयोग करके अपनी ईकेवाईसी प्रोसेस ऑनलाइन शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आपको ‘Generate OTP‘ option पर क्लिक करना होगा। अपनी पहचान प्रमाणित करने और eKYC प्रक्रिया को पूरा करने के लिए OTP दर्ज करें।

online E – KYC biometric के आधार पर ई केवाईसी-

आपके पास अपने बायोमेट्रिक्स का उपयोग करके इलेक्ट्रॉनिक रूप से अपना आधार KYC verification पूरा करने का विकल्प भी है। इसके लिए, आपको अपना registration application जमा करते समय ऑनलाइन eKYC Aadhaar Biometric Authentication के लिए अनुरोध करना होगा।

फिर एक प्रतिनिधि आवेदन में उल्लिखित address पर आपसे मिलने आएगा और UIDAI डेटाबेस की जानकारी के साथ आपके बायोमेट्रिक रीडिंग को match करने के लिए एक स्कैनर का उपयोग करेगा।

offline आधार पेपरलेस eKYC-

ऑफलाइन आधार ईकेवाईसी प्रक्रिया में XML या QR कोड के माध्यम से identity data sharing शामिल है। आप आधार ऑफलाइन XML document को UIDAI वेबसाइट से डाउनलोड करके financial institution के साथ share कर सकते हैं।

e-KYC के फायदे (Benifits of KYC)-

  • इससे चोरी और धोखाधड़ी से बचा जा सकता है।
  • केवाईसी के कारण सरकार और आरबीआई (RBI) दोनों सभी तरह के बैंकिंग ट्रांजेक्शन पर नजर बनाये रखती है।
  • इससे सरकार को मनी लॉन्ड्रिंग रोकने में मदद मिली है।
  • केवाईसी से टेररिज्म को जाने वाली फंडिंग में कमी आई है।
  • इसके साथ ही केवाईसी कराने से बैंको को यह जानने में भी सुविधा मिलती है कि बैंक में निवेश किया गया पैसा किसी गलत जगह जैसे- मनी लॉन्ड्रिंग, आदि अवैध कार्यो के लिए तो नहीं है।
  • केवाईसी म्यूचुअल फंड निवेश के लिए भी जरूरी है।

e kyc के उपयोग- uses of e KYC-

  • व्यक्तिगत पहचान के लिए (Individual): ईकेवााईसी का सबसे प्राथमिक स्तर का उपयोग होता है, व्यक्ति की पहचान को वेरिफाई करना।
  • जैसे कि, मोबाइल सिम के लिए या आरक्षित श्रेणी की रेल यात्रा में वास्तविक टिकटधारक की पहचान तय करना। मतलब ये कि आपने अपना और अपने पिता का जो नाम बताया है वो सही है या नहीं
  • बैंकिंग, वित्तीय लेन-देन में (Financial/Banking transaction) : बैंक में अकाउंट खुलवाने या लेन-देन के लिए, शेयर बाजार, ​म्यूचुअल फंड वगैरह में निवेश के लिए अकाउंट खुलवाना।
  • इन मामलों में केवाईसी इसलिए जरूरी होता है ताकि कोई व्यक्ति सिर्फ अपने नाम से ही निवेश कर सके । इससे हर व्यक्ति का जवाबदेही तय होती है और काले धन पर रोक लगती है।
  • बैंक अकाउंट बंद होने पर : अगर आपका बैंक खाता लेन-देन नहीं करने की वजह से बंद कर दिया गया है तो उसे फिर से चालू कराने के लिए आपको फिर से KYC प्रक्रिया से गुजरना होगा
  • कानूनी प्रक्रिया में (Juridicial): कानूनी प्रक्रिया में किसी संपत्ति या अन्य लाभ पर अपनी दावेदारी पुष्ट करने के लिए ईकेवाईसी का उपयोग चलन में आने लगा है।
  • आपराधिक मामलों में फिंगर प्रिंट, डीएनए मैचिंग वगैरह भी ईकेवाईसी के ही भेद होते हैं।
  • सरकारी व प्रशासनिक कामों में (Govt/administerial : कर्मचारियों की फिंगरप्रिंट की मदद से उपस्थिति पुष्ट करना।
  • सब्सिडी, ईपीएफ, पेंशन, बीमा आदि के लाभ सही लाभार्थियों तक पहुंचाना सुनिश्चित करना। यह भी जानें आधार की मदद से आयुष्मान भारत हेल्थ आईडी कार्ड कैसे बनाएं?

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको के e kyc kya hai, e kyc full form in hindi, e kyc kaise kam karta hai, e-KYC के लिए जरूरी Documents, E-KYC क्यों जरूरी है, E-KYC kitne prakar ki hoti hai, e-KYC के फायदे, e kyc के उपयोग के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment