IP Address Kya Hai, Full Form, Classes, इसके प्रकार और कैसे काम करता है.

आज हम जानेंगे की IP Address Kya Hai, IP Address Full Form In Hindi, IP Address Kaise Kaam Karta Hai Or IP Address Ke Prakar, IP Address ki Classes or IP Address kaise Pata kare जिसकी पूरी प्रोसेस हम Step By Step Process आपको बताने वाले है

computer networking Addressing के प्रकार –

दो प्रकार के होते है-

  1. Logical Address – यह Address User द्वारा Change किया जा सकता है-

जैसे – IP Address

2.Physical Address-

  • यह Address User द्वारा Change नहीं किया जा सकता है
  • जैसे – MAC Address

    ip address ke prakar

    iP address kya hai-(what is IP address in hindi)-

    IP Address kya hai or IP Address kya hota hai इसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे है .IP address, को simply हम “IP” भी कह सकते हैं. यह एक unique address होता है जिससे की एक device को आसानी से identify किया जा सकता है Internet या एक local network में. यह एक system को allow करता है दुसरे system के द्वारा recognize होने के लिए जो की connected होते हैं via Internet protocol.

    IP address इंटरनेट पर उपयोगकर्ता (user) की पहचान होती है। इसे नंबरों (0-255) से दर्शाया जाता है। जिस प्रकार एक घर या ऑफिस का एड्रेस होता है उसी प्रकार इंटरनेट का समर्थन करने वाले स्मार्ट डिवाइस का भी अपना एक एड्रेस होता है।

    जिसे हम IP address कहते हैं। इसे लॉजिकल एड्रेस भी कहा जाता है। यानि IP address हमारे स्मार्टफोन, कंप्यूटर, लैपटॉप और दूसरे स्मार्ट डिवाइस पर मौजूद होता है। और IP address का पूरा नाम Internet protocol address हैं।

    IP Address को Internet का passport भी कहा जाता है, वैसे एक आम यूजर को इसके बारे में जानना उतना जरुरी नहीं होता है. लेकिन एक smart user होने के लिए आपको इस technology के विषय में कुछ जानकरी तो अवस्य ही रखनी चाहिए.

    IP Address full form in hindi-

    IP Address का Full-Form है Internet Protocol address

    ip address kya hai IP Address Full Form (1)

    Format of IP Address (IP Address का फॉर्मेट)-

    IP Address kya hai यह जानने के बाद अब हम आपको इसके फॉर्मेट के बारे में बताने जा रहे है. एड्रेस मे हमेशा नंबर्स के 4 ब्‍लॉक होते हैं, जो पीरियड के द्वारा अलग अलग होते हें| प्रत्येक ब्लॉक में 0 से 255 कि संभावित रेंज होती हैं, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक ब्लॉक मे 256 संभावित वैल्यू होती हैं|

    उदाहरण के लिए, आईपी एड्रेस 192.168.1.10 ऐसे दिखता हैं|इन एड्रेस मे से 3 रेंज को विशेष उद्देश्य के लिए रिज़र्व किया गया हैं| पहला एड्रेस 0.0.0.0 डिफ़ॉल्ट नेटवर्क से संबंधित होता हैं और दूसरा 255.255.255.255 को ब्रॉडकास्ट एड्रेस कहा जाता हैं| तीसरा एड्रेस 127.0.0.1 लूपबैक एड्रेस है, और यह आपके ही मशीन या कंप्‍यूटर को दर्शाता हैं|

    IP Address ke Prakar-

    • Private IP Addresses
    • Public IP Addresses
    • Static IP Addresses
    • Dynamic IP Addresses

    Private IP Address

    कई कंप्यूटर या डिवाइस या तो केबल के साथ या वायरलेस, एक दूसरे से कनेक्‍ट होते हैं, तब वे एक प्राइवेट नेटवर्क बनाते हैं। इस नेटवर्क के भीतर प्रत्येक डिवाइस को फ़ाइलों और रिर्सोसेस को शेयर करने के लिए एक यूनिक आईपी एड्रेस असाइन किया जाता हैं| इस नेटवर्क के सभी डिवासेस के आईपी एड्रेस को प्राइवेट एड्रेस कहा जाता हैं

    इन्हें एक network के “inside” में इस्तमाल किया जाता है, जैसे की एक को आप probably अपने घर में run करते हो. इस प्रकार की IP Addresses का इस्तमाल आपके devices को router और दुसरे devices के साथ communicate करने के लिए किया जाता है.

    एक private network में. Private IP Addresses को manually set किया जाता है या आपके router के द्वारा automatically ही assign किया जा सकता है.

    Public IP Address

    पब्लिक आईपी एड्रेस वह होता हैं, जिसे ISP (Internet Service Provider) देता हैं| इससे आपके होम नेटवर्क को बाहर की दुनिया मे पहचान मिलती हैं|

    यह आईपी एड्रेस पूरे इंटरनेट में यूनिक होता हैं।पब्लिक आईपी एड्रेस स्टैटिक या डायनामिक हो सकता है। स्टैटिक पब्लिक आईपी एड्रेस बदलता नही है और इसे मुख्य रूप से इंटरनेट पर किसी सर्विस (जैसे आईपी कैमेरा, एफटीपी सर्वर, इमेल सर्वर को एक्‍सेस करने के लिए या कंप्‍यूटर का रिमोट एक्‍सेस लेने के लिए) या वेब होस्टिंग के लिए इस्‍तेमाल किया जाता हैं| इसे ISP से खरीदना पड़ना हैं|

    इस प्रकार के IP Addresses का इस्तमाल Network के “outside” में किया जाता है, जिन्हें की ISP द्वारा assign किया गया हो. ये वही main address होता है जिसे की आपके home या business network में इस्तमाल किया जाता है दुनिया भरके networked devices के साथ communicate करने के लिए (जो की है internet).

    ये एक रास्ता प्रदान करता है आपके devices को ISP तक पहुँचने के लिए जिससे आप दुनियाभर के websites और दुसरे devices के साथ directly communicate कर सकते हैं अपने ही personal computer से.

    Dynamic IP Address-

    एक IP address जिसे की assigned किया जाता है एक DHCP server के द्वारा उसे एक dynamic IP address कहते हैं.

    Static IP Address-

    वहीँ अगर एक device में DHCP enabled नहीं होती है या उसे support नहीं करती है तब IP address को manually assigned किया जाता है, इसी case में IP address को एक static IP address कहा जाता है.

    IP Address kaise pata kare in hindi-

    1. सबसे पहले अपने मोबाइल या कंप्यूटर के ब्राउजर में जाए।
    2. ब्राउज़र में जाने के बाद गूगल में सर्च करें What is my IP.
    3. सर्च करने पर आपको आपकी IP ऐड्रेस दिख जाएगी।

    iP Address kaise jane computer me-

    1. कंप्यूटर के कीबोर्ड में Ctrl+R का बटन एक साथ दबाएं। इसे रन खुलेगा।
    2. Run में CMD लिखकर ok दबाएं। इससे कमांड प्रोम्प्ट खुलेगा।
    3. अब कमांड प्रॉन्प्ट में ipconfig लिखकर Enter दबाएं।
    4. अब आपको आपकी आईपी एड्रेस दिख जाएगी।

    IP address ke Versions-

    IP की Versions के बारे में बताएं तब ये दो ही होते हैं. तो चलिए जानते है IPv4 vs IPv6 के बारे में.

    • IPv4
    • IPv6

    1. IPv4

    IPv4 32 बिट का होता है। यह दशमलव की मदद चार हिस्सों में बंटा होता है। और प्रत्येक हिस्सा 8 बिट्स का होता है। साथ ही इसमें प्रत्येक रेंज 0 से 255 के बीच होती है। 

    यह सबसे कॉमन आईपी वर्जन है, जो इंटरनेट की शुरुआत से लेकर अब तक चला आ रहा है। लेकिन अब इसकी सीमा पूरी हो चुकी है। दरअसल इसमें असीमित आईपी एड्रेस नहीं बन सकते। खैर, IPv4 एड्रेस कुछ इस तरह का दिखाई देता है:- 192.106.254.201

    2. IPv6

    पिछले कुछ सालों से इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। और इसके कारण एक नये Version की आवश्यकता महसूस हुई। फलस्वरूप IPv6 को Develop किया गया, जिसमें Unlimited IP Addresses बन सकते हैं।

    IPv6 एक एडवांस्ड आईपी वर्जन है, जो कि 128 बिट का है। यह Colon के जरिए 8 भागों (Segments) में बंटा होता है। IPv6 कुछ इस तरह का दिखाई देता है:- 2409:2452:4e06:44e0:cf7:3084:fb21:206d

    IPv4 or IPv6 me antar-

    IPv4IPv6
    Length 32 bitsLength 128 bits
    Total octet 4Total octet 8
    Range 0 to 255Range 0 to 65535
    4 billion IP address340 trillion ip address
    Example- 192.168.10.26Example- 3FBB:1806:4545:2:100:L8FF:FE21:P75

    IP address के उपयोग

    • Internet using.
    • File sharing.
    • Multiple devices connecting.
    • Local server host.

    IP Address Classes in hindi

    क्या आप आईपी एड्रेस के अलग-अलग Classes के बारे में जानते हैं? शायद कुछ लोग जानते होंगे। पर जो नहीं जानते, उनकी जानकारी के लिए बताना चाहूँगा कि Network Size के आधार पर आईपी एड्रेस के 5 अलग-अलग Classes हैं। और ये Class A, B, C, D और E हैं। लेकिन सवाल यह है कि इन पाँचों का मतलब क्या है? और इनमें फर्क क्या है? आइए, समझते हैं।

    Class A

    क्लास A, बड़े नेटवर्क के लिए इस्तेमाल होता है। इसमें कई सारे Hosts होते हैं। क्लास A आईपी एड्रेस के प्रथम 8 बिट (प्रथम हिस्सा) Network और अंतिम 24 बिट (आखिरी तीन हिस्से) Host Part का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस Class की Range 1 से लेकर 127 है। लेकिन 127.0.0.0 से लेकर 127.255.255.255 तक के IP Addresses Loopback के लिए आरक्षित हैं। यानि कि इनका उपयोग नहीं किया जा सकता।

    ip address full form in hindi

    Class B

    यह मध्यम आकार के नेटवर्क के लिए इस्तेमाल होता है। इसके आईपी एड्रेसेज में प्रथम 16 बिट (शुरू के दो हिस्से) नेटवर्क और अंतिम 16 बिट (आखिरी दो हिस्से) होस्ट पार्ट का प्रतिनिधित्व करते हैं। वहीं अगर रेंज की बात करें तो Class B की रेंज 128 से 191 है।

    ip address kya hota hai

    Class C

    यह छोटे आकार के नेटवर्क के लिए इस्तेमाल होता है। इसके आईपी एड्रेसेज में प्रथम 24 बिट (शुरू के तीन हिस्से) नेटवर्क और अंतिम 8 बिट (आखिरी एक हिस्सा) होस्ट पार्ट का प्रतिनिधित्व करता है। इस क्लास की रेंज 192 से 223 है।

    ip address kaise pata kare in hindi

    Class D

    क्लास D का उपयोग नियमित नेटवर्क संचालन के लिए नहीं किया जाता। यह Multicasting Application के लिए आरक्षित है। इस क्लास की रेंज 224 से 239 है।

    ip address kya hai class d

    Class E

    क्लास E अपरिभाषित है। इसका उपयोग अभी तक परिभाषित नहीं किया गया है। इसकी रेंज 240 से 245 है। इसमें 240.0.0.1 से लेकर 254.255.255.254 तक के IP Addresses शामिल हैं। यह भविष्य में उपयोग किये जाने के लिए आरक्षित है।

    ip address classes in hindi
    ClassAddress rangeSupports
    Class A1.0.0.1 to 126.255.255.2541127 नेटवर्क में से प्रत्येक पर 16 मिलियन होस्ट का समर्थन करता है।
    Class B128.1.0.1 to 191.255.255.254प्रत्येक 16,000 नेटवर्क पर 65,000 होस्ट का समर्थन करता है।
    Class C192.0.1.1 to 223.255.254.254प्रत्येक 2 मिलियन नेटवर्क पर 254 होस्ट का समर्थन करता है।
    Class D224.0.0.0 to 239.255.255.255मल्टीकास्ट ग्रुप के लिए सुरक्षित रखा गया है
    Class E240.0.0.0 to 254.255.255.254भविष्य के उपयोग, या अनुसंधान और विकास के उद्देश्यों के लिए आरक्षित.

    Subnet mask kya hai in hindi-

    Subnet Mask एक ऐसी विधि है जिसमें एक बड़े नेटवर्क को दो या दो से अधिक छोटे लॉजिकल नेटवर्कों में विभाजित कर दिया जाता है. इन छोटे नेटवर्कों को subnetwork या subnet कहा जाता है.

    इन subnetwork या subnet का अपना अलग-अलग एड्रेस होता है. इन छोटे नेटवर्कों को बनाने के लिए subnet mask का प्रयोग किया जाता है.
    subnet mask को IP एड्रेस में network address तथा host address के बीच differentiate (अंतर) करने के लिए किया जाता है.

    Subnet mask(Subnet Mask In Hindi In Computer Network) का उपयोग TCP /IP protocol द्वारा यह पता करने के लिए किया जाता है कि जो host है वो local Subnet में है या फिर remote network में |

    TCP /IP के अंतर्गत IP address में यह फिक्स नहीं होता है की IP एड्रेस का कौन सा पार्ट नेटवर्क की तरह उपयोग होगा और कौन सा पार्ट होस्ट की तरह उपयोग होगा|Subnet Mask In Hindi In Computer Network|

    तो जब तक आपको पूरी जानकारी नहीं होती है तब तक हम ऊपर network address और host address को पूरी तरह determine नहीं कर सकते है | इस information को एक दूसरे 32 bit के नंबर से पता किया जा सकता है जिसे हम Subnet mask भी कहते है |Subnet Mask In Hindi In Computer Network|

    इस example में जो Subnet mask है वो है 255 .255 .255 .०| और अगर आप बाइनरी नोटेशन के बारे में जानते है तो फिर आप इस एड्रेस को ऐसे भी लिख सकते है 11111111 .11111111 .11111111 .00000000 |

    IP address और Subnet mask को एक साथ लाइनअप करें तो फिर हम network और host को अलग अलग partition कर सकते है |

    11000000.10101000.01111011.10000100 – IP address (192.168.123.132)
    11111111.11111111.11111111.00000000 – Subnet mask (255.255.255.0)

    Conclusion-

    • जेसा की आज हमने आपको  IP Address Kya Hai इसकी सारी प्रक्रिया बताई है की केसे हम IP Address Kya Hai, IP Address Full Form In Hindi, IP Address Kaise Kaam Karta Hai Or IP Address Ke Prakar, IP Address ki Classes or IP Address kaise Pata kare के बारे में आपको बताया है.
    • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
    • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
    • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
    • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

    आईपी एड्रेस में अंकों की संख्या कितनी होती है?

    ip address दो प्रकार के होते है जैसे – IPV4 -32 BIT
    IPV6 – 128 Bit का होता है .

    मेरा आईपी पता क्या है?

    यदि आपको अपना IP address जानना है तब आपको अपने ब्राउज़र पर सर्च करना होगा “What is My IP Address”। ऐसा करने पर आपके सामने आपका IP address सर्च रिज़ल्ट पर दिखायी पड़ जाएगा।

    IP Address ka Full Form क्या है

    IP Address ka Full Form Internet Protocol address होता है।

    Leave a Comment