LiFi Kya Hai, LiFi कैसे काम करता है, Li- Fi के फायदे और नुकसान

आज हम यह जानेंगे के LiFi Kya Hai, Li-Fi Full Form in Hindi, LiFi Technology का अविष्कार किसने किया, LiFi कैसे काम करता है, Li- Fi के फायदे, Li- Fi के नुकसान, LiFi और WiFi में अंतर के बारे में आपको स्टेपानुसार बताने वाले है.

LiFi Kya Hai?

LiFi एक High Speed Optical Wireless Technology है। जो Data Transmission के लिए Light Emitting Diodes (LEDs) का इस्तेमाल करती है।

अर्थात Data को भेजने और रिसीव करने के लिए Light (प्रकाश) का उपयोग करती है। यह असल में एक Visible Light Communication (VLC) सिस्टम है।

जो Optical Wireless Communication (OWC) का एक Subset है।

अब आप पूछेंगे कि यह Optical Wireless Communication (OWC) क्या होता है? तो यह असल में ऑप्टिकल संचार तकनीकी का एक प्रकार है।

जिसमें सिग्नल को लाने-ले जाने के लिए Visible, Infrared (IR) और Ultravoilet (UV) Light का प्रयोग होता है। Visible Light Communication (VLC) इसी का एक रूप है।

इसमें सिग्नल को लाने-ले जाने के लिए दृश्य प्रकाश (Visible Light) का प्रयोग होता है। जिसकी Wavelength 380 से 750 nm (400 से 800 THz) के बीच होती है। LiFi इसी Visible Light Spectrum का उपयोग करती है।

Li-Fi का पूरा नाम (Li-Fi Full Form in Hindi)

Li-Fi का फुल फॉर्म Light Fidelity (लाइट फिडेलिटी) होता है इसे हिंदी में प्रकाश निष्ठा भी कहते हैं.

LiFi Technology का अविष्कार किसने किया –

LiFi Technology का आविष्कार Edinburgh University के एक Professor Harald Haas ने 2011 में किया था. यह भी Wi-Fi की तरह ही एक Wireless Networking Facility है.

यह तकनीक तब लास वेगास में 2012 के उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स शो में कैसियो स्मार्टफोन की एक जोड़ी का उपयोग करके डेटा को आदान प्रदान करने के लिए स्मार्टफोन का उपयोग करके डेटा का आदान प्रदान करने के लिए किया गया था.

जो कि उनकी स्क्रीन से अलग अलग तीव्रता के प्रकाश का उपयोग करके दस मीटर की दूरी तक पता लगाने सक्षम थी.

LiFi कैसे काम करता है-

जैसे सारे Internet Devices काम करते हैं वैसे ही LiFi भी काम करता है. कैसे काम करता है यह जानने से पहले आपको यह जान लेना चाहिए इसमें कोन कोन से Components का इस्तमाल किया जा रहा है. मुख्य रूप से ये 3 component होते हैं.

  1. Lamp Driver
  2. LED Lamp
  3. Photo Dectector

इन तीनो Components के साथ साथ आपको एक और Connection चाहिए जिसको हम और आप कहते हैं Internet. पहले से ही मैं आपको एक जानकारी दे चूका हूँ यह Lights के जरिए data Transmission करता है.

LED बल्ब के कुछ Characteristics हैं. LED बल्ब में Light Emitting Diode और Fluorescent Component के कारण LiFi के लिए यह सही Component है.

LiFi के लिए High-Speed data rate की आवस्यकता है और LED बल्ब में DATA Light की Speed से Transmit होते हैं. इन LED Bulb में Light Intensity काफी तेजी से बदलता रहता है. Light कभी On होता है तो कभी Off.

Human Eyes इन LIght On और Off को कभी देख ही नहीं सकते. किंतु Photo Detector को यह सब दिखाई देता है. इन सभी वजहों के कारण LED बल्ब सबसे सही है. LiFi की कार्य प्रणाली को समझने के लिए आपको LED को समझना जरुरी था.

Li- Fi के फायदे –

Li- Fi टेक्नोलॉजी के फायदे निम्नलिखित हैं –

  • Li- Fi में Interference कम होता है.
  • Li- Fi टेक्नोलॉजी के द्वारा डेटा को सुरक्षित रूप से ट्रांसमिट किया जा सकता है, इसलिए हैकिंग जैसी गतिविधि को रोकने के लिए यह टेक्नोलॉजी बहुत फायदेमंद है.
  • Wi-Fi की तुलना में Li- Fi की स्पीड बहुत अधिक होती है.
  • चूँकि प्रकाश पानी के द्वारा ट्रेवल कर सकता है इसलिए समुद्रों के नीचे इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • Wi-Fi टेक्नोलॉजी की तुलना में Li-Fi सस्ती और कुशल तकनीक है.
  • Li- Fi के द्वारा हर प्रकाश स्रोत आपको इंटरनेट की सुविधा प्रदान कर सकता है.

Li- Fi के नुकसान –

Li- Fi के नुकसान निम्नलिखित हैं –

  • Li- Fi के द्वारा इंटरनेट एक्सेस करने के लिए किसी Light Source का होना आवश्यक है, बिना Light Source के आप Li- Fi टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.
  • Li- Fi की रेंज सीमित है, यह केवल 10 मीटर तक के एरिया को कवर कर सकता हैं.
  • Li- Fi कनेक्शन के लिए अलग से नेटवर्क बनाने की जरुरत होती है.
  • वर्तमान समय में Li- Fi को इनस्टॉल करना महँगा हो सकता है, लेकिन इस बात की अधिक संभावना है कि भविष्य में इस टेक्नोलॉजी में और भू सुधार होगा जिससे इसकी लागत को कम किया जा सकता है.

LiFi और WiFi में अंतर-

Li-Fi और Wi–Fi के बीच प्रमुख अंतर को हमने नीचे टेबल के द्वारा आपको बताया है.

Li-Fi (Light Fidelity)Wi–Fi  (Wireless Fidelity)
Li-Fi टेक्नोलॉजी में डेटा का ट्रांसमिशन Light के माध्यम से होता है.Wi–Fi  टेक्नोलॉजी में डेटा का ट्रांसमिशन Radio  Wave के द्वारा होता है.
Li-Fi में डेटा ट्रांसमिट करने के लिए LED Bulb का इस्तेमाल किया जाता है.Wi–Fi  राऊटर के द्वारा डेटा ट्रांसमिट करता है.
Li-Fi का इस्तेमाल एयरलाइंस, पानी के नीचे की खोज, ऑपरेशन थिएटर, कार्यालय और घर में इंटरनेट ब्राउज़िंग के लिए किया जाता है.Wi-Fi Hotspot के द्वारा इंटरनेट एक्सेस किया जाता है.
डेटा ट्रांसमिट करने की स्पीड लगभग 1 Gbps होती है.150Mbps से लेकर अधिकतम 2Gbps तक की रेंज में डेटा ट्रांसमिट करने में सक्षम है.
Light को दीवारों से दूसरी तरफ जाने से रोका जाता है, इसलिए इसमें डेटा का संचरण सुरक्षित रहता है.रेडियो तरंगों को दीवार रोक नहीं सकती है, इसलिए डेटा को सुरक्षित करने के लिए अन्य टेक्नोलॉजी का सहारा लेना पड़ता है.
Li-Fi 10 मीटर तक Distance को ही कवर कर सकता है.Wi–Fi  लगभग 32 मीटर तक के Distance को कवर कर सकता है. (ट्रांसमिट पावर और एंटीना प्रकार के आधार पर अलग होता है)
Li-Fi में LED Bulb, LED Driver और Photo Detector कॉम्पोनेन्ट का इस्तेमाल किया जाता है.Wi–Fi  में राउटर, मॉडेम और एक्सेस पॉइंट इस्तेमाल किये जाते हैं.
इसकी Frequency रेडिओ तरंगों की तुलना में 10 हजार गुना अधिक होती है.रेडिओ तरंगों की आवर्ती 2.4Ghz, 4.9Ghz और 5Ghz तक होती है.

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको के LiFi Kya Hai, Li-Fi Full Form in Hindi, LiFi Technology का अविष्कार किसने किया, LiFi कैसे काम करता है, Li- Fi के फायदे, Li- Fi के नुकसान, LiFi और WiFi में अंतर के फायदे के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment