MPIN Kya Hota hai, सीखे Mpin कैसे बनाते है और भी बहुत कुछ

आज हम यह जानेंगे के MPIN Kya Hota hai, MPIN Full Form, MPIN Kaise banate hai, MPIN बनाने के फायदे के बारे में आपको स्टेपानुसार बताने वाले है.

MPin kya hota hai –

एमपिन यह एक तरह का सिक्योरिटी कोड है जो पूरे 4 अंकों का होता है, बहुत से बैंकों में यह 6 अंकों का भी होता है, जिसके माध्यम से नागरिक अपने मोबाइल द्वारा किसी भी कार्य के लिए पैसों के ट्रांसजेक्शन कर सकते हैं,

परन्तु इसके लिए नागरिकों को मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्राप्त करनी होती है, जिसे नागरिक बैंक के माध्यम से रजिस्ट्रेशन करके या अपने मोबाइल पर USSD व UPI एप्प द्वारा भी इसे प्राप्त कर पाते,

MPIN कोड जितना आवश्यक है उतना ही सेंसिटिव भी है, जिस तरह इसके उपयोग द्वारा आवेदकों को उनके बैंक खातों से पैसों के लेन-देन की सुविधा प्राप्त होती है.

उसी तरह इस कोड को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी भी उपयोगकर्ता की होनी आवश्यक है क्योंकि बहुत बार यह देखने को मिलता है की किसी अन्य व्यक्ति के साथ अपने कोड को शेयर करने से नागरिकों के बैंक खातों से गलत तरीकों से पैसे निकाल लिए जाते हैं, इस लिए यह सिक्योरिटी कोड बहुत ही आवश्यक होता है,

जो आपके मोबाइल द्वारा आपके बैंक की लेंन-देन को सुरक्षित रखता है, परन्तु इसके लिए यह जरुरी है की नागरिक किसी को अपना एमपिन ना बताये।

MPIN Full Form क्या होता है-

MPIN Full Form: MPIN का Full Form “Mobile banking Personal Identification number” है । जब आप एक सेलफोन का उपयोग करके लेनदेन करते हैं तो यह पासवर्ड के रूप में कार्य करता है।

MPIN KYA HOTA HAI

यह 4 अंक (कई बैंकों में 6 अंक) का एक Secret Code है जो एटीएम पिन कोड के समान हैं। लेकिन यह एटीएम पिन से अलग है।

MPIN का उपयोग करना तब होता है जब आप Mobile के माध्यम से भेजते हैं। ध्यान रखें कि यह Sensitive कोड है। आपको इसे संभालना होगा।

इसे कहीं भी बचाओ मत। बैंक मोबाइल बैंकिंग के लिए साइन अप करते समय बैंक अपने ग्राहकों को प्रदान करता है। आप MPIN को UPI ​​App और USSD बैंकिंग का उपयोग करके अपना MPIN सेट कर सकते हैं।

MPIN बनाने के लिए क्या ज़रूरी है:-

Banking Transaction को सुरक्षित रखने के लिए 2 तरह से Authentication किया जाता है | जैसे आपको अपने ATM और PIN का उपयोग करके ATM से पैसा मिलता है | ठीक उसी तरह जब आप Mobile का उपयोग करें तो यहाँ भी Authentication 2 तरह से होना चाहिए |

Mobile Banking में, पहला Authentication आपका Mobile Number होता है | यही कारण है कि आप केवल Registered Mobile Number के माध्यम से Mobile Banking कर सकते है |

दूसरा Authentication आपका MPIN होता है | केवल आप इसे जानते हैं और आप इसे याद रख सकते हैं | यह आपके Mobile Transaction को सुरक्षित बनाता है | यदि MPIN नहीं होगा तो कोई भी आपके Mobile का उपयोग कर Mobile Transaction कर सकता है |

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि ATM PIN भी MPIN के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है | हालांकि, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ATM PIN को expose नहीं चाहती इसलिए इन दोनों पिनों को अलग-2 रखा जायेगा | और दोनों सेवाएं स्वतंत्र कार्य करेंगी |

MPIN Kaise banate hai –

जैसा की आपको बताया गया है की खाताधारक को अपने वित्तीय लेन देन के लिए एमपिन कोड (MPIN Code) आवश्क रूप से रखना चाहिए,निम्नलिखित एमपिन कोड प्राप्त करने की प्रक्रिया बताई जा रही है:

  • कोई भी खाताधारक दो प्रकार से MPIN Code को बना सकता है।
  • सर्वप्रथम बैंकों के द्वारा Mobile Banking की सुविधा से कोई भी खाताधारक MPIN Code को पाने के लिए Registration करा सकता है।
  • यदि दूसरे तरीके की बात की जाए तो MPIN Code को हासिल करने के लिए वर्तमान में बहुत से ऐसे मोबाइल एप्लीकेशन है जो पेमेंट मेथड के लिए जाने जाते हैं जैसे BHIM APP,USSD तथा UPI APP हैं उनके द्वारा भी रजिस्ट्रेशन स्वयं कर सकते हैं।
  • उपरोक्त बताएंगे दोनों तरीकों के द्वारा एमपिन कोड का रजिस्ट्रेशन करके कोई भी खाताधारक अपने मोबाइल बैंकिंग के द्वारा ऑनलाइन पैसों का लेनदेन कर सकता है।

MPIN बनाने के फायदे :-

MPIN मोबाइल बैंकिंग में एक बहुत ही महत्वपूर्ण कोड है। केवल अपने मोबाइल का उपयोग करके धन हस्तांतरण (Fund Transfer) करने की आवश्यकता है। इसका उपयोग निम्नलिखित Transaction mode में किया जाता है:-

  • Mobile App Banking
  • SMS banking
  • USSD banking
  • UPI apps
  • IMPS
  • IVR
  • MPIN एक Security Code है, जो हर व्यक्ति के बैंकिंग ट्रांजेक्शन को सुरक्षित बनाता है |
  • MPIN केवल 4 अंकों का कोड है, जिसे आवेदक अपने मोबाइल पर USSD व UPI App के माध्यम से अपनी सुविधानुसार खुद ही create कर सकते हैं |
  • नागरिकों के खाते से तब तक ट्रांजेक्शन संभव नहीं हो सकेगा, जब तक MPIN ना दर्ज किया जाए, इससे यदि किसी का मोबाइल गुम भी हो जाता है, तो उसके खाते से तब तक कोई ट्रांजेक्शन नहीं ही सकेगी जब तक सही MPIN दर्ज ना किया गया हो |
  • आवेदक आसानी से अपने बैंक द्वारा भी अपने मोबाइल के माध्यम से MPIN प्राप्त कर सकेंगे |

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको MPIN Kya Hota hai, MPIN Full Form, MPIN Kaise banate hai, MPIN बनाने के फायदे के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment