Pashudhan Bima Yojana 2022, पशुओ का बीमा कराये ऑनलाइन सीखे हिंदी में

आज हम यह जानेंगे के pashudhan bima yojana, rajasthan pashu bima yojana, राजस्थान पशु बीमा योजना, राजस्थान पशु बीमा योजना के लाभ, rajasthan pashu bima yojana documents, rajasthan pashu bima yojana online application form के बारे में आपको स्टेपानुसार बताने वाले है.

pashudhan bima yojana kya hai-

केंद्र सरकार ने पशुधन बीमा योजना पशुपालकों के लिए आरंभ की है। बीमा योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा सभी दुधारू तथा मांस उत्पादित करने वाले पशुओं का बीमा कराया जाएगा और यदि किसी कारणवश बीमा कराए गए पशुओं की मृत्यु हो जाती है तो बीमा कंपनी मुआवजा प्रदान करेगी।

मुआवजे की रकम 15 दिन के अंदर अंदर बीमा कंपनी को प्रदान करनी होगी। बीमा कराने के लिए पशुपालक को प्रीमियम की रकम का भुगतान करना होगा।

बीमा योजना के अंतर्गत पशुपालक दुधारू पशुओं (गाय, भैंस, भेड़ आदि) के साथ-साथ मांस उत्पादित (भेड़, बकरी आदि) करने वाले पशुओं का भी बीमा करवा सकता है।

पशुपालक कम से कम 5 पशुओं का बीमा करा सकता है। पशुधन बीमा योजना में पशुओं का बीमा कराने के लिए प्रीमियम की रकम पर सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

एपीएल श्रेणी के पशुपालकों को 50% सब्सिडी प्रदान की जाएगी तथा बीपीएल, अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति के पशुपालकों को 70% सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

कहने का मतलब यह है कि एपीएल श्रेणी के पशुपालकों को केवल 50% प्रीमियम का भुगतान करना होगा तथा बीपीएल, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के पशुपालकों को केवल 30% सब्सिडी का भुगतान करना होगा। प्रीमियम की दर 1 साल के लिए 3% और 3 साल के लिए 7.50% है।

राजस्थान पशु बीमा योजना में शामिल पशु तथा लाभार्थियों का चयन-

  • देशी/ संकर दुधारू मवेशी और भैंस योजना की परिधि के अंतर्गत आएंगे। दुधारू पशु/ भैंस में दूध देनेवाले और नहीं देनेवाले के अलावा वैसे गर्भवती मवेशी, जिन्होंने कम से कम एक बार बछड़े को जन्म दिया हो, शामिल होंगे।
  • ऐसे मवेशी जो किसी दूसरी बीमा योजना अथवा योजना के अंतर्गत शामिल किये गये हों, उन्हें इस योजना में शामिल नहीं किया जाएगा।
  • अनुदान का लाभ प्रत्येक लाभार्थी को 2 पशुओं तक सीमित रखा गया है तथा एक पशु की बीमा अधिकतम 3 वर्षों के लिए की जाती है।
  • किसानों को तीन साल की पॉलिसी लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, जो सस्ती और बाढ़ तथा सूखा जैसी प्राकृतिक आपदाओं के घटित होने पर बीमा का वास्तविक लाभ पाने में उपयोगी हो सकती हैं।
  • फिर भी यदि कोई किसान तीन साल से कम अवधि की पॉलिसी लेना चाहता है, तो उसे वह भी दिया जाएगा और उसे उसी मवेशी का अगले साल योजना लागू रहने पर फिर से बीमा कराने पर प्रीमियम पर अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा।

rajasthan pashu bima yojana ke fayde- राजस्थान पशु बीमा योजना के लाभ-

  • एससी, एसटी बीपीएल वर्ग के पशुपालकों को भैंस का बीमा 413 रुपए प्रीमियम जिसमें जिसमें 50 हजार का बीमा।
  • गाय का 330 की प्रीमियम राशि पर 40 हजार का बीमा होगा इसमें 70 प्रतिशत छूट शामिल है।
  • सामान्य वर्ग के पशुपालकों को बीमा की प्रीमियम राशि में 50 प्रतिशत छूट मिलेगी।
  • इन पशुपालकों को गाय के बीमा के लिए 550, भैंस के बीमा के लिए 688 रुपए जमा कराने होंगे।
  • योजना के तहत देशी, संकर नस्ल के दूध देने वाले पशु गाय, भैंस, भार ढोने वाले ऊंट, घोड़ा, गधा, सांड, पाड़ा तथा अन्य पशु बकरी, भेड़ का बीमा अनुदानित प्रीमियम दर पर किया जाएगा।
  • भेड़ का बीमा करवाने पर विभाग द्वारा एससी, एसटी एवं बीपीएल पशुपालकों को 80 प्रतिशत अनुदान एवं सामान्य वर्ग के पशुपालकों को 70 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा।
  • रोग या दुर्घटना से बीमित पशु की मृत्यु होने पर 100 प्रतिशत बीमा लाभ दिया जाएगा।
  • अनुदानित बीमा के लिए दुधारु गाय की कीमत 40 हजार, भैंस की 50 हजार भार ढोने वाले पशु (ऊंट, घोड़ा, गधा, सांड, पाडा) की अधिकतम 50 हजार रुपए रहेगी।
  • बीमा योजना में टैग से पशुओं की पहचान सुनिश्चित होने से इसमें पारदर्शिता रहेगी।

rajasthan pashu bima yojana documents-राजस्थान पशु बीमा योजना के लिए कागजात-

  • पशु का स्वास्थ्य प्रमाण पत्र
  • पशु के कान में टैग सहित पशुपालक का फोटो
  • भामाशाह कार्ड की कॉपी
  • BPL कार्ड ,SC, ST से संबंधित दस्तावेजों की कॉपी
  • बैंक का नाम ,खाता संख्या, IFSC कोड
  • आधार कार्ड की कॉपी
  • अपने हिस्से की प्रीमियम राशि सर्विस टैक्स के साथ
  • जिस भी पशु का बीमा किया गया है यदि उसका टैग गिर जाता है या खो जाता है तो तुरंत पशु चिकित्सक अधिकारी को सूचित किया जाएगा तथा नया टैग लगवाना होगा |
  • टैग एवं फोटो की राशि बीमा कंपनी द्वारा ही दी जाएगी|

राजस्थान पशु बीमा योजना किस प्रकार से किया जाएगा-

  • पशुपालकों को अपने पशुओं को बीमा करवाने के लिए संबंधित पशु चिकित्सालय में पशु बीमा के लिए सूचित करना होगा।
  • सूचना के बाद पशु चिकित्सक एवं संबंधित बीमा कंपनी अभिकर्ता पशुपालक के घर पहुंचेंगे।
  • वहां पर पशु चिकित्सक द्वारा पशु का स्वास्थ्य परीक्षण कर स्वास्थ्य प्रमाण पत्र जारी करेगा।
  • बीमा के लिए पशुपालक के पास भामाशाह कार्ड एवं बैंक में खाता होना जरूरी है।
  • पशु का बीमा करने के दौरान बीमा कंपनी द्वारा पशु के कान में टैग लगाया जाएगा।
  • पशुपालक की पशु के साथ संयुक्त फोटो ली जाएगी।
  • बाद में पशु का बीमा कर पॉलिसी जारी कर दी जाएगी।
  • पशु का बीमा होने के बाद कान में लगाया जाने वाला टैग गिर जाता है तो पशुपालक द्वारा बीमा कंपनी को सूचना दी जाएगी।
  • जिससे बीमा कंपनी पशु के नया टैग लगा सके।
  • जिस पशुपालक का भामाशाह कार्ड बना हुआ है, वह अपने 5 पशुओं का बीमा करवा सकता है।
  • प्रीमियम राशि 50 हजार रुपए है। एससी-एसटी ओर बीपीएल 70 प्रतिशत छूट है।

राजस्थान पशु बीमा योजना के अंतर्गत बीमा राशि कैसे मिलेगी?-

  • पशु की मृत्यु होने की दशा में बीमा कंपनी के कार्यालयों के प्रतिनिधि को या उनके मोबाइल नंबर पर पशु मृत्यु के बारे में सूचित करें |
  • पशु की रात्रि में मृत्यु होने की स्थिति में बीमा कंपनी को दूसरे दिन प्रातः ही सूचित किया जाना आवश्यक होगा |
  • बीमा कंपनी को सूचना होने पर 6 घंटों की अवधि में मृत पशु का सर्वे किया जाएगा |
  • पशु का पोस्टमार्टम किया जायेगा।
  • पशु चिकित्सक द्वारा पोस्टमार्टम कर मृत्यु प्रमाणपत्र जारी किया जायेगा।
  • मृत पशु का पोस्टमार्टम करते समय फोटो ली जानी आवश्यक होगी |
  • पशु चिकित्सक द्वारा पोस्टमार्टम करते हुए फोटो एवं टैग , बीमा कंपनी को उपलब्ध करवाना |
  • बीमा पॉलिसी की प्रति बीमा कंपनी को उपलब्ध करवाना।
  • क्लेम फार्म भरकर बीमा कंपनी को उपलब्ध करवाना।
  • बिमा कंपनी द्वारा बिमा राशी पशुपालक के बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी।
  • पशु की निम्न कारणों से मृत होने पर ही पशुपालक को बीमा क्लेम दिया जाएगा:
  • दुर्घटना ,बिजली ,बाढ़ ,आंधी तूफान ,भूकंप ,तूफान तथा बीमा अवधि के दौरान होने वाली बीमारी या रोग से मृत्यु होने पर पूरा क्लेम दिया जायेगा।
  • पशु की निम्न कारणों से मृत होने पर पशुपालक बीमा क्लेम नहीं दिया जाएगा:
  • पशु को जानबूझकर कोई भी हानि पहुचाई जाती हैं तो बीमा क्लेम नहीं दिया जाएगा।
  • जानबूझकर पशु को मारा जाता है | तब भी क्लेम नहीं मिलेगा।
  • पशु की चोरी होने पर, गुप्त बिक्री होने पर भी क्लेम नहीं दिया जाएगा।

rajasthan pashu bima yojana online application form- राजस्थान पशु बीमा हेतु आवेदन प्रक्रिया –

  • राजस्थान के किसान सरकार द्वारा शुरू की गई भामाशाह पशु योजना के अंतर्गत अपना पंजीकरण करवाना चाहते हैं उन्हें नीचे दी गई प्रक्रिया को फॉलो करना चाहिए:-
  • सर्वप्रथम किसान पशु चिकित्सा विभाग के ऑफिशल पोर्टल http://ibs.rajasthan.gov.in पर लॉगिन करें।
    वेबसाइट के होम पेज पर भामाशाह पशु बीमा योजना संबंधी लिंक पर क्लिक करें।
  • ऑफिशल पोर्टल पर दी गई पशु बीमा संबंधी जानकारी को ध्यानपूर्वक पढ़ें।
    तत्पश्चात आवेदन फॉर्म को आवश्यक विवरण के साथ विधिवत भरे।
  • आवश्यक दस्तावेज संलग्न करें।
  • तत्पश्चात फॉर्म सबमिट कर दें।
rajasthan pashu bima yojana 2022

राजस्थान पशु बीमा योजना के लिए हेल्पलाइन नंबर-

  • टेलीफोन नंबर-0141-2731710
  • फैक्स नंबर-0141-2732566
  • मोबाइल नंबर-9001531892
  • ईमेल [email protected]

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको pashudhan bima yojana, rajasthan pashu bima yojana, राजस्थान पशु बीमा योजना, राजस्थान पशु बीमा योजना के लाभ, rajasthan pashu bima yojana documents, rajasthan pashu bima yojana online application form के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment