Trademark Kya Hota Hai, Trademark Online Registration Kaise Kare, Trademark के फायदे

आज हम यह जानेंगे के Trademark Kya Hota Hai, Trademark ki Validity Kitni Hoti Hai, trademark kitne prakar ka hota hai, ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के लिए डॉक्यूमेंट, trademark online Registration kaise kare, Trademark Registration Fees, ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड करना क्यों ज़रूरी है, Trademark के फायदे के बारे में आपको स्टेपानुसार बताने वाले है.

Trademark Kya Hota Hai- ट्रेडमार्क क्या होता है –

कोई भी उत्पाद अगर किसी लोगो, टैगलाइन या स्लोगन के नाम से जाना जाता है या फिर एक Brand बन जाता है तो उस लोगो या स्लोगन को ही Trademark कहा जाता है!

ट्रेडमार्क किसी भी बिजनेस की पहचान, एक विक्रेता से दूसरे विक्रेता के मध्य व्यापारिक संबंध, एक दूसरे के द्वारा बेचे और खरीदे गए उत्पाद में अंतर करने और उत्पाद को दर्शाने में इस्तेमाल किया जाता है!

कम्पनी का Trademark रजिस्टर्ड करवाना बहुत जरूरी है! बिना ट्रेडमार्क के किसी भी उत्पाद को बेचना अपराध की श्रेणी में आता है! किसी भी एक कम्पनी का ट्रेडमार्क कोई दूसरी कम्पनी Use नहीं कर सकती है! यह भी एक तरह का अपराध माना जाता है!

ट्रेडमार्क की वैधता कितनी होती है – Trademark ki Validity Kitni Hoti Hai-

किसी भी Trademark की वैधता 10 साल की होती है! 10 साल के बाद कम्पनी को ट्रेडमार्क रिन्यू करवाना होता है!

किसी भी कम्पनी का एक बार ट्रेडमार्क registered होने के बाद कोई कम्पनी उस कम्पनी का Trademark और नाम का उपयोग नहीं कर सकती है!

Trademark के प्रकार- trademark kitne prakar ka hota hai-

Trademark के 3 प्रकार हैं। आइए बताते हैं आपको ट्रेडमार्क के प्रकार के बारे में।

SERVICE MARK:

सर बिस्मार्क हमारी सेवा को सुरक्षित रखने के लिए होता है। एक विशेष में सेवा मां का बहुत महत्व है। मां की तरह से वह मार कभी वही महत्व है।

उन्हें भी वहीं सुरक्षा मिलती है और रजिस्ट्रेशन के लिए सर्विस माह का सबसे बड़ा उदाहरण है कि किसको ऐड जो कंप्यूटर रिपेयर ट्रबल शूटिंग कंपनी को पहचान देता है।

STRONG TRADEMARK:

FANCIFUL, ARBITRARY AND SUGGESTIVE TRADEMARK: यह ट्रेडमार्क्स सबसे ज्यादा सुरक्षा प्रदान करते हैं और इनको स्ट्रांग ट्रेडमार्क का खिताब दिया जाता है।

WEAK TRADEMARK:

MERELY, DESCRIPTIVE AND GENERIC: यह ट्रेडमार्क सबसे कमजोर किस्म के होते हैं। इनसे सुरक्षा का कोई भी उम्मीद नहीं कर सकता।

Trademark Registration Fees-

ट्रेडमार्क की पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए अलग-अलग शुल्क इस प्रकार है।

ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए आवेदन करने के लिए विभिन्न तरह के फॉर्म- Tm-1, Tm-2, Tm-3, Tm-8, Tm-51 इन्हें नए ट्रेडमार्क पंजीकरण के लिए बनाया गया है जिसके लिए ट्रेडमार्क शुल्क 4,000 रुपये रखा गया है।

अगर Entrepreneur का ट्रेडमार्क Remove हो जाता है तो Restoration के लिए फॉर्म Tm-13 भरकर 5,000 रुपए शुल्क चुकाना होगा।

रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क के नवीनीकरण के लिए फॉर्म Tm-12 को भरना होता है जिसके लिए शुल्क 5,000 रुपये है।
अगर आप नवीनीकरण दिनांक के बाद फॉर्म Renew करवा रहे है तो उसके लिए 3,000 रुपए का सरचार्ज और फॉर्म Tm-10 भी भरना होगा।

विरोध करने (Opposition Raise) करने के लिए फॉर्म Tm-5 को भरना होता है जिसके लिए भारत सरकार ने 2500 रुपए निर्धारित किये है।
पंजीकृत ट्रेडमार्क में सुधार के लिए फॉर्म Tm-26 भरकर 3,000 रुपए शुल्क भरना होगा।

trademark Registration apply ke liye documents- ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के लिए डॉक्यूमेंट।

किसी भी कंपनी के लिए ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन करते समय कुछ दस्तावेज की आवश्यकता होती है।

  • पैन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट
  • ट्रेडमार्क प्रश्नावली
  • पावर ऑफ़ अटोर्नी की कॉपी
  • आवेदक का हस्ताक्षर

इसके अतिरिक्त कुछ अन्य दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ सकती है।

trademark online Registration kaise kare – ट्रेडमार्क कैसे अप्लाई करे?

अब प्रश्न है की अपने ट्रेडमार्क को पंजीकृत करने के लिए क्या करना होगा कैसे अप्लाई कर सकते है तो मैं आपको बताता हूँ किसी भी ट्रेडमार्क को रजिस्टर्ड करवाने में करीबन 2 साल लग जाता है Trademark Registration आप

दो तरीको से कर सकते है एक ऑनलाइन और दूसरा ऑफलाइन ट्रेडमार्क पंजीकृत करने के विकल्प है।
सबसे पहले आपको ब्रांड के मुताबिक ट्रेडमार्क सर्च करना है.

ट्रेडमार्क अपने ब्रांड से मिलता जुलता ही सर्च करे पहले से Registered Trademark नहीं होना है यदि आपके द्वारा चुना गया ट्रेडमार्क पहले से रजिस्ट्रेशन हो चूका है तो उस ट्रेडमार्क को आप रजिस्टर्ड नहीं कर पाएंगे तो एक यूनिक ट्रेडमार्क का चुनाव करे।

ट्रेडमार्क चुन लेने के बाद आप Ipindiaonline.gov.in पर जाकर अपने ट्रेडमार्क को चेक कर सकते है की आपके द्वारा चुने गए चिन्ह का पहले से रजिस्ट्रेशन तो नहीं हो चूका है यह कार्य आप ऑफलाइन भी कर सकते है लेकिन इसके आपको registrar of trademark के office जाना होगा।

trademark online Registration kaise kare1

फिर आपको Ipindiaonline.gov.in पोर्टल पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करना है यह रजिस्ट्रेशन आपके व्यावसायिक Name, Brand, और Logo, के लिए ट्रेडमार्क एप्लीकेशन फॉर्म भरना होगा.

Trademark Kya Hota Hai

इस फॉर्म को आप ऑनलाइन और ऑफलाइन जाकर जमा कर सकते है इस पंजीकृत प्रकिर्या में डेढ़ से दो साल का समय लग सकता है।

Trademark Application को अप्लाई करने के लिए करीब 4500 रूपये फीस देने पड़ सकते है ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के बाद Legally owner बन जाते है और सरकारी रजिस्टर में नाम ब्रांड ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड हो जाता है उसके बाद उसे कोई गैर इस्तेमाल नहीं कर सकता है और अपने Company और Brand को Secure कर सकते है।

ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड करना क्यों ज़रूरी है?

रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क वाली कम्पनियो के प्रोडक्ट मार्केट में एक अलग छवि बनाती है ग्राहकों में ट्रस्ट पैदा करती है जिससे प्रोडक्ट की सेल और डिमांड बढ़ती है।

नकली प्रोडक्ट उसी के नाम से उसी तरह नहीं बना सकते है यदि कोई बनाता भी है तो उस पर कानूनी कार्यवाही भी कर सकते है।

पंजीकृत ट्रेडमार्क से मार्किट में बनाये जाने वाले नकली वस्तु को पकड़ने में आसानी होती है।

ट्रेडमार्क से अपने कंपनी की पहचान बढ़ा सकते है प्रमोशन कर सकते है।

इस प्रकिर्या से आप अपने Brand, Name, Logo, और Tag Line, को कॉपी होने से बचा सकते है कंपनी के प्रोडक्ट को सुरक्षित कर सकते है ताकि व्यवसायिक लाभ के लिए कोई उपयोग न कर सके।

Trademark के फायदे-

Trademark Registration से होने वाले फायदे निम्नलिखित हैं-

  • Registration करने के बाद आप उस Trademark के कानूनन मालिक बन जाते है। जिसकी वजह से कोई और व्यक्ति या कंपनी आपके Trademark का उपयोग आपकी अनुमति के बिना नही कर सकती है।
  • अगर कोई Trademark Registered नही है, तो वह किसी भी दूसरी कंपनी के खिलाफ करवाई नही कर सकता।
  • Trademark के माध्यम से कंपनी अपने Customer के बीच अच्छी पहचान बना पाती है इससे Customer को Product Search करने में ज्यादा Problem नही आती।
  • ट्रेडमार्क का सबसे बड़ा फायदा यह है की इसमे कंपनी का ब्रांड और नाम सुरक्षित रहता है यदि कोई Company द्वारा Trademark Registered करवाया गया है तो किसी अन्य Traders द्वारा उसका उपयोग करने पर आप उसके खिलाफ कार्यवाही कर सकते है।
  • Trademark के माध्यम से कंपनी अपने Customer के बीच अच्छी पहचान बना पाती है इससे Customer को Product Search करने में ज्यादा Problem नही आती।

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको के Trademark Kya Hota Hai, Trademark ki Validity Kitni Hoti Hai, trademark kitne prakar ka hota hai, ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के लिए डॉक्यूमेंट, trademark online Registration kaise kare, Trademark Registration Fees, ट्रेडमार्क रजिस्टर्ड करना क्यों ज़रूरी है, Trademark के फायदे के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे हम ही TECHNICAL PROBLEM का समाधान करते है. और यदि तुरंत सेवा लेना चाहते हो तो हमारे साईट के Contact Us में जाकर हमसे Contact भी कर सकते है.

Leave a Comment